उत्तराखंड

Uttarakhand Weather: अगले तीन दिनों के लिए रहे सावधान! भारी बारिश की चेतावनी

उत्तराखंड में आफत की बारिश ने पहाड़ से लेकर मैदान तक लोगों की मुश्किलें बढ़ा दी हैं। आज भी मौसम विभाग ने भारी बारिश के आसार जताए हैं। इसके साथ ही अगस्त महीने की शुरुआत भी भारी बारिश के साथ होने की संभावना है।। क्योंकि मौसम विभाग ने राज्य के  सभी जिलों में शनिवार से अगले तीन दिन भारी बारिश होने के आसार है। वहीं मौसम विभाग ने 29 जुलाई से एक अगस्त तक पूरे प्रदेश में तेज बारिश का यलो अलर्ट जारी किया है। खासकर चमोली, बागेश्वर और उत्तरकाशी के अधिकतर इलाकों में भारी बारिश होने के आसार हैं।

यह भी पढ़ें 👉  पति के संग सात फेरे लेने वाली पत्नी ने ही की पति की निर्मम हत्या

यलो अलर्ट जारी

मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक बिक्रम सिंह ने बताया, तीन दिनों तक प्रदेश भर के कई इलाकों में भारी बारिश का यलो अलर्ट जारी किया गया है। मौसम विभाग ने चेतावनी जारी की है कि संवेदनशील इलाकों में भूस्खलन होने से सड़क मार्ग और राजमार्ग अवरुद्ध हो सकते हैं। ऐसे में किसी भी समस्या से बचने के लिए पहाड़ी जिलों की यात्रा करने से पहले मौसम की जानकारी अवश्य ले लें।

बदरी‍नाथ हाईवे बहा, गंगोत्री-यमुनोत्री हाईवे मलबा आने से बंद

यह भी पढ़ें 👉  नियम:इन महाशय के लिए कंहा गया उत्तराखंड पुलिस का नियम? पुलिस पर प्रश्नचिन्ह

उधर, चमोली में भारी बारिश से बदरीनाथ हाईवे लामबगड़ में 50 मीटर बह गया है। शनिवार दोपहर तक हाईवे खुलने की उम्मीद है। करीब 1000 यात्री मार्ग खुलने का इंतजार कर रहे हैं।  वहीं उत्तरकाशी में जिला मुख्यालय सहित आसपास के क्षेत्रों में शुक्रवार रात को हल्की वर्षा हुई। वर्षा के कारण गंगोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग स्वारी गदेरे और सुनगर के पास अवरुद्ध हुआ है। जबकि यमुनोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग पर डाबरकोट के पास लगातार पत्थर गिर रहे हैं। जिसके कारण राजमार्ग देर रात से अवरुद्ध है। कमद क्षेत्र में अतिवृष्टि से कई स्थानों पर भूस्खलन हुआ है। जिससे रास्ते क्षतिग्रस्त हुए और कई भवनों को खतरा पैदा हो गया है।

यह भी पढ़ें 👉  खुलासा:मेडिकल स्टूडेंट्स के सुसाइड मामलों मे NMC का खुलासा,SGRR केस मे भी यही कारण शत प्रतिशत

बारिश से कोटद्वार में नदी-नाले उफान पर, घरों में घुसा मलबा

कोटद्वार का आसपास के क्षेत्रों में बीती रात हुई भारी वर्षा से आमजन जंग दहशत में आ गया। भारी वर्षा के कारण क्षेत्र की मालन, सुखरो व खो नदियों के साथ ही बरसाती गदेरे भी उफान पर आ गए। पटियाली गदेरे के उफान पर आने से आमपड़ाव व कौड़िया में कई स्थानों पर लोगों के घरों में मलबा घुस गया।

 

 

Most Popular

To Top