उत्तराखंड

Breaking:डॉ हरक सिंह इस मामले मे दोषी करार, CBI को अल्टीमेटम



दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने उत्तराखंड के तत्कालीन वन मंत्री हरक सिंह रावत को पर्यटन को बढ़ावा देने के नाम पर जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क में जंगल और पारिस्थितिकी को नष्ट करने का दोषी ठहराया है। सुप्रीम कोर्ट के आदेश में कहा गया है कि ये राजनेताओं और सरकारी अधिकारियों के बीच सांठगांठ का स्पष्ट मामला है।

सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में चल रही सीबीआई जांच को तीन महीने के भीतर शीर्ष अदालत को स्टेटस रिपोर्ट देने का आदेश दिया है. सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया कि अब वो जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क में पेड़ों की कटाई, अतिक्रमण और नियमों के उल्लंघन की सीबीआई जांच की निगरानी करेगा।

यह भी पढ़ें 👉  बीकेटीसी में सुरक्षा संवर्ग और आईटी संवर्ग के लिए 58 पदों के सृजन की स्वीकृति

अधिकारियों से होगी वसूली
सुप्रीम कोर्ट ने उत्तराखंड सरकार को पर्यटन को बढ़ावा देने के नाम पर वन क्षेत्र को नष्ट करने के लिए दोषी अधिकारियों से लागत वसूलने का आदेश दिया। सुप्रीम कोर्ट ने परिधीय और बफर क्षेत्र में बाघ सफारी और चिड़ियाघर के निर्माण की अनुमति दी है लेकिन कुछ शर्तों के साथ। ये शर्तें आज शीर्ष अदालत द्वारा गठित विशेषज्ञों की एक समिति द्वारा तैयार की जाएगी। इस समिति द्वारा तैयार दिशानिर्देश पूरे भारत में लागू होंगे।

यह भी पढ़ें 👉  रिचार्ज: र‍िलायंस ज‍ियो ने चुपचाप री लॉन्च किया ये प्लान, जानें अपडेट

सुप्रीम कोर्ट ने 2019 में राष्ट्रीय उद्यानों के लिए केंद्र द्वारा तैयार किए गए दिशानिर्देशों को रद्द कर दिया। एससी ने कहा कि इन दिशानिर्देशों ने पर्यटन को बढ़ावा दिया और वन और वन्यजीव संरक्षण की अनदेखी की। हालांकि, शीर्ष अदालत ने कहा कि टाइगर सफारी और चिड़ियाघरों की स्थापना के लिए विशेषज्ञ समिति द्वारा तैयार की जाने वाली शर्तों पर 2016 के दिशानिर्देशों पर विचार किया जा सकता है, जो सिर्फ पर्यटन ही नहीं, बल्कि इको टूरिज्म को भी बढ़ावा देते हैं।

यह भी पढ़ें 👉  सौगातः श्री बदरीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति कर्मचारियों को मिली सौगात, पहली बार गोल्डन कार्ड से आच्छादित

शीर्ष अदालत ने कहा कि सफारी और चिड़ियाघरों में केवल घायल जानवरों और जिनका इलाज और पुनर्वास चल रहा है, उन्हें ही प्रदर्शित किया जा सकता है।

स्थापित एवं निर्माणाधीन टाइगर सफारी को परेशान नहीं किया जाएगा। हालाँकि उन्हें पारिस्थितिकी और शोर पर विशेषज्ञ समिति द्वारा तैयार की गई शर्तों का पालन करना होगा।

उत्तराखंड सरकार को दोषी अधिकारियों पर कार्रवाई करने और तीन महीने के भीतर अदालत को रिपोर्ट देने का निर्देश दिया गया है।

Most Popular

To Top