उत्तराखंड

राज्य वन्यजीव बोर्ड की 19वीं बैठक में सीएम ने अधिकारियों दिए निर्देश, वन विभाग की परखी मुस्तैदी

उत्तराखंड राज्य वन्यजीव बोर्ड की 19वीं बैठक सचिवालय देहरादून में हुई। बैठक की अध्यक्षता करते हुए मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने वन्यजीव हेल्पलाइन का लोकार्पण किया। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने वन विभाग के अधिकारियों को मानव वन्यजीव संघर्ष के तहत मिलने वाली राहत राशि, पीड़ितों को 15 दिन के भीतर देने के निर्देश दिए। साथ ही उन्होंने बंदरों और सूअरों से खेती को बचाने के लिए ठोस कार्ययोजना बनाने को भी कहा।

यह भी पढ़ें 👉  निर्देश:धामी के ग्राउंड पर उतरते ही व्यवस्था हुई दुरस्त

अधिकारियों को दिए निर्देश

मुख्यमंत्री ने मानव-वन्यजीव संघर्ष को कम करने के लिए जरूरी कदम उठाने और वनों के पास गांव में सोलर लाइट लगाने, जागरूकता अभियान चलाने व पर्याप्त वन कर्मचारियों की नियुक्ति करने के भी निर्देश दिए। मुख्यमंत्री धामी ने कहा कि जिन स्थानों पर मानव-वन्यजीव संघर्ष के ज्यादा मामले सामने आते हैं, उन जगहों को चिह्नित कर घटनाएं कम करने के गंभीर प्रयास करें। मुख्यमंत्री ने कहा कि फसलों को जंगली जानवरों से बचाने के लिए बायोफेंसिंग पर काम किया जाए।

यह भी पढ़ें 👉  खुलासा:मेडिकल स्टूडेंट्स के सुसाइड मामलों मे NMC का खुलासा,SGRR केस मे भी यही कारण शत प्रतिशत

सीएन ने जानी अधिकारियों की सक्रियता 

इसके बाद उन्होंने विभाग के अधिकारियों की सक्रियता जानने के लिए टोल फ्री नंबर पर सुरई रेंज में बाघिन के घायल होने की सूचना दी। इससे विभाग में हड़कंप मच गया। मुख्यमंत्री की सूचना पर वन विभाग के अधिकारी जंगल की ओर दौड़ पड़े। हालांकि यह सूचना गलत निकली। असल में सीएम ने यह कॉल वन विभाग की मुस्तैदी परखने के लिए की थी। मुख्यमंत्री धामी ने जब यह सूचना वन विभाग के टोल फ्री नंबर पर दी तो कॉल अटेंड करने वाले कर्मचारी को नहीं पता था कि उनकी बात सीएम से हो रही है। सूचना के आधार पर यह जानकारी संबंधित वन प्रभाग को भेजी गई। वन विभाग के अधिकारी सूचना पर जंगल पहुंचे, लेकिन खोजबीन के बाद भी उन्हें घायल बाघिन नहीं मिली।

यह भी पढ़ें 👉  Rishikesh AIIMS में नर्सिंग आफिसर्स को अभद्र भाषा बोलने पर फिर हुआ बवाल

Most Popular

To Top