उत्तराखंड

वेद विज्ञान संस्कृति महाकुम्भ, उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ के साथ भव्य उद्धघाटन

वेद विज्ञान संस्कृति महाकुम्भ का भव्य उद्धघाटन आज दयानन्द स्टेडियम गुरुकुल काँगड़ी विश्वविद्यालय में हुआ। त्रिदिवसीय महाकुम्भ और अंतर्राष्ट्रीय शोध संगोष्ठी के उद्धघाटन समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में उप राष्ट्रपति जगदीप धनखड़ ने संबोधित करते हुए हुआ कहा कि वेद भारत की सांस्कृतिक धरोहर हैं और वेदों के ज्ञान को आम जनमानस तक ले जाना होगा और गुरुकुल की पुण्य भूमि इस कार्य के लिए उपयुक्त है। जगदीप धनखड़ ने कहा कि संस्कृति विरोधी ताकतों पर प्रतिघात होना चाहिए भारत की गौरवशाली संस्कृति है और इसे वैभव से समस्त विश्व परिचित रहा है। उन्होने कहा कि यह विश्वविद्यालय दर्शन और वैदिक ज्ञान का पुरातन और प्रतिष्ठित केंद्र रहा है इस महाकुम्भ के मंथन की गूंज देश के सभी विश्वविद्यालयों तक जाएगी।
वेद विज्ञान संस्कृति महाकुम्भ के विशिष्ट अतिथि और उत्तराखंड के राज्यपाल ले. ज. गुरमीत सिंह ने कहा कि वेदों से हमें आत्म ज्ञान मिलता है और युवा शक्ति को आत्म मूल्य को समझना चाहिए। उन्होने कहा कि भारतीय शिक्षा पद्धति और वैदिक ज्ञान विज्ञान ने चरित्र निर्माण का कार्य किया है वर्तमान में वैदिक ज्ञान को आधुनिक ज्ञान और तकनीकी के साथ समेकित करने की आवश्यक्ता है।

यह भी पढ़ें 👉  प्रभाव:केदारनाथ में एवलांच की घटनाओं से यात्रा में पड़ रहा प्रभाव

वेद विज्ञान संस्कृति महाकुम्भ में अति विशिष्ट अतिथि और उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि गुरुकुल काँगड़ी विश्वविद्यालय राष्ट्र की धरोहर है इसने राष्ट्रसेवी नागरिक देश को समर्पित किए हैं। पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि देश को विश्व गुरु बनाने के लिए हमें वेदों की ओर लौटना होगा और इस उद्देश्य की दिशा में यह महाकुम्भ वेदों के ज्ञान को जन-जन तक पहुँचने का कार्य करेगा। उन्होने उपस्थित छात्र-छात्राओं से आहवाह्न किया कि भारतीय संस्कृति और राष्ट्र उन्नयन के लिए मिल-जुलकर कार्य करें।

यह भी पढ़ें 👉  सीएम धामी ने नरेंद्र मोदी को तीसरी बार प्रधानमंत्री की शपथ लेने पर दी बधाई

वेद विज्ञान संस्कृति महाकुम्भ के मुख्य संरक्षक और बागपत सांसद डॉ. सत्यपाल सिंह ने कहा स्वामी श्रद्धानन्द स्वराज और संस्कृति के लिए लड़ें विज्ञान विषयों को हिन्दी में पढ़ाने के कार्य भी गुरुकुल ने ही किया था। डॉ. सत्यापल सिंह ने कहा स्वामी दयानन्द की 200 वीं जयंती वर्ष को राष्ट्र स्तर पर मनाने का उल्लेखनीय कार्य प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में हुआ है इसके लिए राष्ट्र उनके प्रति आभारी है। डॉ. सिंह ने कहा कि गुरुकुल एक तीर्थ भूमि है जिसने आजादी के आंदोलन में महत्वपूर्ण भूमिका निभायी थी। नारी शिक्षा के लिए अथक प्रयासों के लिए स्वामी श्रद्धानन्द के प्रति हमें कृतज्ञ होना चाहिए।
इस अवसर पर विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. सोमदेव शतांशु ने उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ के सम्मान में अभिनंदन पत्र का संस्कृत में वाचन किया समस्त अतिथियों का प्रतीक चिन्ह एवं पुष्पगुच्छ देकर स्वागत किया।

यह भी पढ़ें 👉  बयान:शपथ लेते ही भाजपा सांसद ने क्यों? कही मंत्री पद छोड़ने की बात

कार्यक्रम का संचालन डॉ. अजय मलिक ने किया। इस अवसर पर कुलसचिव प्रो. सुनील कुमार, मुख्य संयोजक प्रो. प्रभात कुमार, वित्ताधिकारी प्रो. देवेन्द्र गुप्ता, प्रो. देवेन्द्र सिंह मलिक, डॉ . एलपी पुरोहित डॉ. गगन माटा,उत्तराखंड संस्कृत विवि कुलपति प्रो. दिनेश शास्त्री, प्रो. ईश्वर भारद्वाज, डॉ. हिमांशु पंडित, डॉ. अजित तोमर, डॉ. पंकज कौशिक, कुलभूषण शर्मा, हेमंत नेगी सहित शहर के गणमान्य संत,सन्यासी और राजनेता उपस्थित रहे।

Most Popular

To Top