उत्तराखंड

गौरीकुंड लैंडस्लाइ: लापता 20 लोगों का नहीं चल सका कुछ पता, ड्रोन से की जा रही तलाश

उत्तराखंड के गौरीकुंड में भूस्खलन के बाद तबाही मच गई। हादसे में लापता 20 लोगों अभी तक कोई पता नहीं चल सका है। लापता लोगों की तलाश में मंदाकिनी नदी के आसपास के इलाकों में भी सर्च ऑपरेशन जारी है, जिसमें स्थानीय लोग भी मदद कर रहे हैं।

ड्रोन से ली जा रही मदद
जिला आपदा प्रबंधन अधिकारी नंदन सिंह रजवार ने कहा कि राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल,राज्य आपदा प्रतिक्रिया बल, यात्रा प्रबंधन बल, पुलिस और अग्निशमन विभाग के कर्मियों ने रविवार को धारी देवी से कुंड बैराज तक ड्रोन की मदद से लापता लोगों की तलाश की, लेकिन लापता लोगों का पता नहीं चल सका। रुक-रुक कर हो रही बारिश और पहाड़ियों से गिरते पत्थरों के राहत और बचाव कार्यों में बाधा आ रही है। सोनप्रयाग और गौरीकुंड के बीच लगभग छह किलोमीटर का इलाका भूस्खलन के मामले में अत्यधिक संवेदनशील है। शुक्रवार को दुकानों के मलबे से तीन शव बरामद किए गए लेकिन 20 लोग अब भी लापता हैं। रजवार ने बताया कि जिस जगह पर दुकानें थीं वहां और मंदाकिनी नदी में भी तलाशी अभियान जारी है। वहीं उखीमठ के उप-विभागीय मजिस्ट्रेट जितेंद्र वर्मा ने कहा कि खराब मौसम और मंदाकिनी के जल स्तर में वृद्धि ने बचाव अभियान को मुश्किल बना दिया है। उन्होंने कहा कि लगातार खराब मौसम के कारण और अधिक भूस्खलन का खतरा पैदा हो रहा है, अस्थायी कियोस्क और दुकानों के मालिक सुरक्षित स्थानों पर जाने के लिए स्वेच्छा से जगह खाली कर रहे हैं। इसके अलावा जिला प्रशासन ने सोनप्रयाग और गौरीकुंड के बीच सड़क के दोनों ओर दुकानों और अन्य स्ट्रक्चर की पहचान करना शुरू कर दिया है जो भूस्खलन से खतरे में पड़ सकती हैं।

यह भी पढ़ें 👉  खुलासा:मेडिकल स्टूडेंट्स के सुसाइड मामलों मे NMC का खुलासा,SGRR केस मे भी यही कारण शत प्रतिशत

बता दें कि उत्तराखंड के गौरीकुंड में गुरुवार और शुक्रवार की मध्यरात्रि को लगभग 12 बजे भूस्खलन हुआ, जिससे बरसाती झरने के करीब और मंदाकिनी नदी से लगभग 50 मीटर ऊपर स्थित तीन दुकानें बह गईं। जिस समय यह हादसा हुआ उस समय मंदाकिनी नदी उफान पर थी। वहीं भूस्खलन के दौरान लापता हुए 20 लोगों का अभी तक कोई पता नहीं चल पाया है। बचाव दल लगातार कड़ी मेहनत कर उन 20 लापता लोगों की तलाश कर रहे हैं

यह भी पढ़ें 👉  Rishikesh AIIMS में नर्सिंग आफिसर्स को अभद्र भाषा बोलने पर फिर हुआ बवाल

लापता लोगों के नाम जारी

अभी भी लापता 20 लोगों में तिलवाड़ा के आशु और प्रियांशु चमोला, बस्ती के रणबीर सिंह, नेपाल निवासी अमर बोहरा, उनकी पत्नी अनीता बोहरा, उनकी नाबालिग बेटियां राधिका और पिंकी और बेटे पृथ्वी, जटिल और वकील शामिल हैं। भरतपुर के खानवा निवासी विनोद, सहारनपुर के नगला बंजारा के मुलायम, उत्सुया चोपड़ा के सुगाराम, बम बोहरा, चंद्र कामी, धर्मराज, नीर बहादुर, उनकी पत्नी सुमित्रा देवी, उनकी बेटी कुमारी निशा और रोहित बिष्ट भी लापता हैं।

यह भी पढ़ें 👉  ऋषिकेश- हनुमान घाट पर डूबा युवक, SDRF चला रही सर्च ऑपरेशन

 

 

Most Popular

To Top