उत्तराखंड

AIIMS ऋषिकेश से ब्लड कंपोनेंट लेकर कोटद्वार उड़ा था ड्रोन, बीच रास्ते में हुआ क्रैश

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) ऋषिकेश पर्वतीय क्षेत्र में ड्रोन के जरिए दवा भेजने का सफल प्रयोग होने के बाद इसे कोटद्वार के लिए ब्लड व ब्लड कंपोनेंट लेकर भेजा गया था लेकिन करीब डेढ़ घंटे बाद भी ड्रोन कोटद्वार बेस हॉस्पिटल नहीं उतार पाया है।

यह भी पढ़ें 👉  होशियार:ऋषिनगरी मे डिफेन्स की नकली शराब,लोगों की सेहत से खिलवाड़, वीडियो

बताया जा रहा है कि कोटद्वार आते हुए रास्ते में कोहरा होने के कारण ड्रोन को रास्ते में उतारना पड़ा। बेस चिकित्सालय से टेक्निकल टीम को मौके की तरफ भेजा गया है। टीम द्वारा कोटद्वार की कलालघाटी पर पेड़ से ड्रोन को उतारा गया। इस दौरान ड्रोन क्षतिग्रस्त हो गया।

यह भी पढ़ें 👉  लघु सिंचाई खंड नैनीताल के अधिशासी अभियंता गिरफ्तार, बरामद हुए इतने लाख रुपये

एम्स से दोपहर 12:45 बजे किया गया था रवाना
बता दें एम्स की कार्यकारी निदेशक प्रोफेसर मीनू सिंह ने सोमवार को दोपहर 12:45 बजे ड्रोन को एम्स परिसर से कोटद्वार के लिए रवाना किया था। ड्रोन में दो किलो वजन का ब्लड कंपोनेंट भेजा गया।  एम्स ऋषिकेश की ओर से सर्वप्रथम टिहरी के बोराड़ी में ड्रोन के जरिए कम समय के भीतर दवा पहुंचाने का प्रयोग किया गया था, जो सफल रहा। अगले चरण में यमकेश्वर क्षेत्र में ड्रोन से दवा भेजने का काम किया गया।

यह भी पढ़ें 👉  नियम:इन महाशय के लिए कंहा गया उत्तराखंड पुलिस का नियम? पुलिस पर प्रश्नचिन्ह

Most Popular

To Top