उत्तराखंड

Chardham Yatra 2023: भैया दूज के अवसर पर बंद होंगे यमुनोत्री धाम के कपाट



यमुनोत्री धाम के कपाट बंद किए जाने का मुहूर्त निकाला लिया गया है। यमुनोत्री धाम के कपाट 15 नवंबर को भैया दूज के पावन पर्व पर 11 बजकर 57 मिनट पर अभिजीत मुहूर्त मकर लग्न पर छः माह के लिए बंद कर दिए जाएंगे। जिसके बाद मां यमुना अपने शीतकालीन प्रवास खरसाली गांव में श्रद्धालुओं को दर्शन देंगी।

यमुनोत्री धाम के कपाट 15 नवंबर को शीतकाल के लिए बंद किए जाएंगे। जिसके बाद मां यमुनोत्री शीतकालीन प्रवास खरशाली गांव में विराजमान होकर श्रद्धालुओं को दर्शन देंगी. साथ में मां यमुना के भाई शनिदेव सोमेश्वर देवता की डोली भी खरशाली गांव के लिए रवाना होगी।

यह भी पढ़ें 👉  FRI में क्षेत्र सहायक और विभिन्न पदों के लिए निकली भर्ती, जानें डिटेल्स

12 बजकर 13 मिनट से राहु काल शुरू होने के कारण, इससे पहले मां यमुना की डोली शीतकालीन प्रवास खरशाली गांव में स्थित मंदिर के लिए रवाना होगी. बैठक में पुरोहित महासभा अध्यक्ष पुरुषोत्तम उनियाल, यमुनोत्री मंदिर समिति सचिव सुरेश उनियाल, रामस्वरूप उनियाल,पंकज उनियाल, पवन उनियाल, प्यारे लाल उनियाल, जयप्रकाश उनियाल आदि मौजूद थे।

यह भी पढ़ें 👉  मेहनत से सपने को कर दिखाया सफल, छोटे से गांव के विकास का उत्तराखंड JE पद पर हुआ सिलेक्शन

गंगोत्री मंदिर समिति और रावल, तीर्थ पुरोहित गंगोत्री धाम के कपाट बंद होने की तिथि और शुभ मुहूर्त तय कर लिया है। इस बार गंगोत्री धाम के कपाट 14 नवंबर को श्रद्धालुओं के लिए आगामी 6 माह के लिए बंद कर दिए जाएंगे। कपाट बंद होने के बाद मां गंगा की उत्सव डोली अपने मायके मुखीमठ यानी मुखबा के लिए रवाना होगी। डोली मुखीमठ पहुंचने पर स्थानीय लोग मां गंगा का स्वागत बेटी की तरह करते हैं, जहां मां गंगा छह माह तक श्रद्धालुओं को दर्शन देंगी।

यह भी पढ़ें 👉  ब्रेकिंग: कांग्रेस को मिली बड़ी जीत, मंगलौर सीट से काजी निज़ामुद्दीन ने मारी बाजी

Most Popular

To Top