उत्तराखंड

मानवता:चारधाम यात्रा पर निकले श्रवण कुमार की सारथी बनी उत्तराखंड पुलिस,देखें वीडियो

अमित रतूड़ी/सम्पादक/ठेठ पहाड़ी न्यूज़।
आपने कई बार श्रवण कुमार जैसे बेटों की कहानियां सुनी और पढ़ी होगी। इसके अलावा प्रभु श्री राम के कई अनोखे भक्तों के बार में भी सुना होगा,जो कई तकलीफों के साथ अयोध्या प्रभु के दर्शन करने पहुंचे।

आज हम आपको एक ऐसे अनोखे भक्त या कहें बेटों के बारे में बताएंगे,जिसका मां के प्रति प्रेम और श्री राम से मिली प्रेरणा चारों तरफ चर्चा का विषय बनी हुई है। वंही इन बेटों के धर्म मे उनके मददगार बने उत्तराखंड पुलिस के जवान ने भी मानवता के प्रति प्रेम दिखाकर उत्तराखंड पुलिस की साख को और भी ऊंचाई पर पहुंचा दिया है। जिसकी तारीफ़ स्वयं चारधाम यात्रा पर आये यह दोनों बेटे कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें 👉  आजीविका मिशन के तहत कार्यरत बीएमएम कर्मियों का बढ़ाया गया वेतन, अब मिलेगी इतनी सैली

-यंहा पढ़ें और देखें पूरा वाकया
कलयुग के श्रवण कुमार पालकी बनाकर अपनी मां को चारधाम की यात्रा के लिए निकल पड़े हैं।
जी हां मां का दर्जा भगवान से भी बड़ा होता है। यह चरितार्थ करने के लिए उत्तर प्रदेश के बदायूं जिले के इस्लामनगर थाना क्षेत्र के नूरपुर गांव के रहने वाले दो भाई धीरज और तेजपाल निकल पड़े है। वह अपनी माता के लिये श्रवण कुमार बन गए हैं और उन्हें पालकी में बैठाकर चारधाम यात्रा करा रहे हैं। जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। बताया जा रहा है दोनों भाइयों ने अपनी माता के लिये पालकी बनाई और उसमें बैठाकर अपने कंधों पर उठाकर चार धाम यात्रा करा रहे हैं।

यह भी पढ़ें 👉  केदारनाथ धाम में तीर्थ पुरोहितों ने बनाया राज्य सूचना आयोग के सचिव अरविंद पांडे को बंधक,

इसी बीच उतराखंड पुलिस की सीखलाई सीख से ड्यूटी पर तैनात उपनिरीक्षक राजा राम डोभाल ने दोनों भाइयों को उत्तरकाशी के यमुनोत्री पहुंचने पर मदद के साथ साथ उन्हें भोजन भी कराया। इसका एक वीडियो उत्तराखंड पुलिस ने सोशल मीडिया पर जारी किया है। वीडियो मे देखा जा रहा है कि उत्तराखंड पुलिस दोनों मातृ भक्त बेटों को जंगल के सुनसान रास्ते पर सारथी बनने का काम भी कर रही है। पुलिस की इस मानवता को देख वीडियो में धीरज ने उतराखंड पुलिस की भी जमकर तारीफ की है। उन्होंने कहा कि ‘सभी भाइयों को राम-राम! हम गंगोत्री के लिए जा रहे थे। बहुत ज्यादा सुनसान और जंगली क्षेत्र यात्रा के बीच मे था। तभी कुछ पुलिसकर्मी हमारे पास आए और मदद करने की इच्छा जाहिर की। उन्होंने हमें जंगल से सुरक्षित पार कराया। उत्तराखंड पुलिस का बहुत-बहुत धन्यवाद। हमारी उन्होंने मुश्किल समय में मदद की है। बता दें कि मित्रता सेवा सुरक्षा के स्लोगन पर कार्य करने वाली उत्तराखंड पुलिस के कई ऐसे किस्से हैं जिन्होंने पूरे देश मे अपनी मानवता का परचम लहराया है।

यह भी पढ़ें 👉  कैबिनेट मंत्री डॉ. धन सिंह रावत  ने दीप प्रज्वलित कर किया योगा का शुभारंभ

Most Popular

To Top