उत्तराखंड

चीन में इन्फ्लुएंजा फ्लू-निमोनिया बीमारी फैली-उत्तराखंड के स्वास्थ्य सचिव डॉ RRK ने जारी किया Alert

चीन में Covid-19 महामारी के लिए जिम्मेदार माने जाने वाले दुनिया भर के करोड़ों मौतों के बावजूद, अब बच्चों में निमोनिया और इन्फ्लूएंजा फ्लू की बीमारी का उत्थान चीन में शुरू हो गया है। इसे देखते हुए उत्तराखंड में स्वास्थ्य सचिव डॉ. आर. राजेश कुमार ने आज बचाव के लिए दिशानिर्देश जारी किए हैं।

चीन में छोटे बच्चों में सांस संबंधित बीमारियों में माइक्रो प्लाज्मा निमोनिया और इन्फ्लूएंजा फ्लू के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। इस पर विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने सभी देशों को अलर्ट जारी किया है। केंद्र सरकार ने भी देश के सभी राज्यों को निगरानी बढ़ाने के लिए दिशानिर्देश जारी किए हैं।

यह भी पढ़ें 👉  श्री महंत इन्दिरेश अस्पताल के वरिष्ठ यूरोलाॅजिस्ट डाॅ विमल कुमार को मिला प्रथम स्थान, कर चुके है कई सफल ऑपरेशन

सचिव डॉ आर राजेश कुमार गाइडलाईन में निर्देश दिए कि बच्चों में निमोनिया और इन्फ्लूएंजा फ्लू के लक्षणों पर विशेष निगरानी रखी जाए। सर्विलांस बढ़ाई जाए. राज्य में अभी तक इस तरह का कोई मामला नहीं है, लेकिन एहतियात के तौर पर सभी जिलों को अस्पतालों में विशेष निगरानी रखने के लिए निर्देश दिए गए हैं।

गाईडलाइन में राज्य के सभी जिला अधिकारियों, मुख्य चिकित्साधिकारियों को  निर्देश दिए गए हिं कि वे  निमोनिया और इन्फ्लूएंजा फ्लू  रोगियों के उपचार के लिए आईसोलेशन बेड/वार्ड, ऑक्सीजन बेड, आईसीयू बेड, वेंटिलेटर, ऑक्सीजन सिलेंडर की पर्याप्त व्यवस्था करें.

गाईडलाइन…………..

1 :- सभी चिकित्सालयों में इन्फ्लुएंजा / निमोनिया रोगियो के उपचार हेतु पर्याप्त आईसोलेशन बेड/वार्ड, आक्सीजन बेड, आई०सी०यू० बेड, वेंटिलेटर, आक्सीजन सिलेण्डर की व्यवस्था सुनिश्चित रखें।

यह भी पढ़ें 👉  उत्तराखंडः बीते 24 घंटे में वनाग्नि की 23 घटनाएं, आरोप में तीन मुकदमे दर्ज 

2:- समस्त चिकित्सालयों (मेडिकल कॉलेज/जिला/बेस/संयुक्त/ सी०एच०सी०/पी०एच०सी० स्तर तक) में आवश्यक औषधियों (Oseltamivir Cap./Syp., /antibiotics etc), सामग्री (PPE, N-95 Mask, VTM etc) की उपलब्धता एवं चिकित्सक, नर्सिंग स्टाफ की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित करें।

3 :- Influenza like Illness (ILI)/Severe Acute Respiratory Illness (SARI) के लक्षणों वाले रोगियों की सघन निगरानी करें। सभी रोगियों का विवरण अनिवार्य रूप से आई०डी०एस०पी० के अंतर्गत Integrated Health Information Platform (IHIP) पोर्टल में में दर्ज करें.

4 :- SARI के लक्षणों से ग्रसित रोगियों के Nasal & Throat Swab samples जांच के लिए निकटवर्ती मेडिकल कॉलेज जांच केन्द्रों में व्यवस्था करें.

यह भी पढ़ें 👉  तनिष्क ने सीबीएसई बोर्ड परीक्षा में 96.8 अंक प्राप्त कर परिवार का नाम किया रोशन

5 :- समुदाय स्तर पर यदि किसी जगह ILI/SARI केस की क्लस्टरिंग मिलती है तो वहां पर जांच सुविधा की उपलब्धता एवं त्वरित नियन्त्रण एवं रोकथाम कार्यवाही करें।

6 :- इन्फ्लुएंजा / निमोनिया सम्बंधित रोगों के फैलाव को रोकने और जन जागरूकता के लिए विभिन्न माध्यमों से व्यापक प्रचार-प्रसार करें.

A :- छींकते या खांसते समय नाक और मुंह को ढकने के लिए रुमाल / टिश्यू का इस्तेमाल करें.

B :-  साबुन-पानी से हाथों को स्वच्छ रखें।

3-  सार्वजनिक स्थानों पर थूकने से परहेज करें।

4 :-  ILI/SARI के लक्षण होने पर चिकित्सकीय परामर्श लें.चिकित्सकीय परामर्श पर ही दवा खाएं.

Most Popular

To Top