उत्तराखंड

विरोध:मंत्री से लेकर मेयर लगी हैं जनसम्पर्क मे लेकिन भीतरीघात इतना,कि खामियाजा न भुगतना पड़े

लोकसभा चुनाव हैं और लगातार प्रत्याशी दिन रात सभाएं कर रहें हैं, प्रचार प्रसार जोरों शोरों से चल रहा हैं।

हालांकि उत्तराखंड की बात करें तो जनता सिर्फ़ मोदी जी को ध्यान में रखते हुए वोट करेगी यह तय हैं, यह सिर्फ हम नहीं बल्कि अब खुद सांसद प्रत्याशी कहने लगे हैं।

नैनीताल लोकसभा से भाजपा के सांसद प्रत्याशी अजय भट्ट उस समय कांग्रेस द्वारा ट्रोल लिए जाने लगे जब एक जनसभा को संबोधित करते हुए उनका एक वीडियो सोशल मीडिया में वायरल होने लगा।

वह एक सभा को संबोधित करते हुए बोल पड़े की मेरी गलतियों को सजा मोदी जी को मत देना बस इतना और तुरंत कांग्रेस प्रत्याशी और समर्थकों द्वारा तुरंत पलटवार शुरू हो गया।

यह भी पढ़ें 👉  होशियार:ऋषिनगरी मे डिफेन्स की नकली शराब,लोगों की सेहत से खिलवाड़, वीडियो

कांग्रेस प्रत्याशी प्रकाश जोशी अपनी सभाओं में बोलें भई जब काम ही नहीं किया कभी अजय भट्ट जनता ले बीच गएं ही नहीं तो आज उनकी मजबूरी हैं की वह माफ़ी मांग रहें हैं लेकिन इसबार जनता मोदी जी के नाम पर वोट नहीं करने वाली।

हालांकि ये समय बताएगा वोट कहां कितना पड़ता हैं लेकिन धरातल पर वोटर भाजपा प्रत्याशी अजय भट्ट से खुश बिल्कुल भी नहीं हैं, सांसद खुद के गोद लिए गांव में तक नजर नहीं आए लेकिन मोदी जी से जनता आज भी बैर करती नहीं दिख रहीं।

यह भी पढ़ें 👉  लघु सिंचाई खंड नैनीताल के अधिशासी अभियंता गिरफ्तार, बरामद हुए इतने लाख रुपये

इसके अलावा भाजपा के चहेते अनिल बलूनी जीतें या नहीं। यह भविष्य के गर्त मे है लेकिन इनके ही लोकसभा क्षेत्र यमकेश्वर मे पहाड़ की नारी उलटे पैर दौड़ा देंगी यह वीडियो कभी देखने को न मिलता अगर भाजपा विधायक रेणु बिष्ट अपनी छवि को अपने विधानसभा क्षेत्र मे सुधार कर रख देती। अंकिता भंडारी के केस मे संदिग्ध भूमिका मे जी रही विधायक का इतना विरोध है कि इनकी वजह से सांसद प्रत्यशी बलूनी को उलटे पैर जनसंपर्क से लौटना पड़ा। वंही ऋषिकेश मे भाजपा मंत्री और नि. वर्तमान मेयर जनसंपर्क अभियान मे कम्पिटिशन बनाये हुए हैं, यही प्रतिस्पर्धा निकाय चुनाव मे भी रहेगी जिसका खामियाजा निकाय चुनाव मे भाजपा को भुगतना पड़ सकता है, यह हम नहीं ऋषिकेश की सम्मानित जनता के विचार हैं, इस बार चुनाव की बागडोर संभाले जिलाध्यक्ष रविन्द्र राणा ने भी पत्रकारों से दूरी बनाई है, सवालों के जवाब मे वह भी कॉल उठाने की जहमत नहीं उठा पा रहे

यह भी पढ़ें 👉  नियम:इन महाशय के लिए कंहा गया उत्तराखंड पुलिस का नियम? पुलिस पर प्रश्नचिन्ह

Most Popular

To Top