उत्तराखंड

धामी सरकार के ढाई साल में 7644 युवाओं को मिली सरकारी नौकरी



देहरादून। उत्तराखंड के युवा मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी वास्तव में युवाओं को नौकरी देने में सबसे धाकड़ निकले। अकेले यूकेएसएसएससी (उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग) में मुख्यमंत्री धामी के सिर्फ ढाई साल के कार्यकाल में हर माह 255 युवाओं को सरकारी नौकरी मिलीं हैं। यानी अभी तक धामी सरकार ने आयोग के मार्फ़त 7644 युवाओं को सरकारी नौकरी दी है। जबकि इससे पहले आयोग की स्थापना से लेकर मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के शपथ लेने से पहले आठ सालों तक सिर्फ 5710 को ही नौकरी मिल पाई थी। अभी हजारों पदों पर भर्ती प्रक्रिया जारी है। ऐसे में मुख्यमंत्री ने युवाओं से जो वायदा किया है, उस पर वह खरा उतर रहे हैं।
उत्तराखंड में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने जुलाई 2021 में पहले कार्यकाल में जिम्मेदारी संभाली। इस दौरान मुख्यमंत्री ने युवाओं को सरकार नौकरी पूरी पारदर्शिता के साथ देने का वायदा किया। इस दौरान चल रही भर्ती प्रक्रिया को तेजी से शुरू किया। भर्ती को लेकर लम्बे समय से चल रही गड़बड़ी की शिकायत मिली तो धामी सरकार ने युवाओं के हितों को देखते हुए हर गड़बड़ी की जांच कराई और भर्तियों को निरस्त कर पारदर्शिता के साथ दोबारा भर्ती के निर्देश दिए। नतीजन युवाओं की नौकरी पर डाका डालने वालों को सीधे सलाखों के भीतर डाला। इन अड़चनों के बावजूद भर्ती प्रक्रिया को जारी रखा। यहां तक कि आयोग की कमान तेज तर्रार आईपीएस (रिटार्यड) अफसर जीएस मर्तोलिया को सौंपी गई। इसके बाद भर्ती प्रक्रिया ने जो रफ्तार पकड़ी, वह बेरोजगार युवाओं के लिए वरदान साबित हुई। आयोग ने रिकॉर्ड समय में न केवल परीक्षाएं आयोजित कराई, बल्कि उनका परिणाम जारी कर जरूरी औपचारिकताओं के चयन संस्तुति सम्बंधित विभागों को भेजी गई। यही कारण है कि मुख्यमंत्री पुष्कर धामी के पहले कार्यकाल 2021 में करीब 3722 तो 2022 में कई भर्ती निरस्त करने के बावजूद 1110 तथा 2023 यानी वर्तमान तक 2812 पदों पर भर्ती की गई। कुलमिलाकर मुख्यमंत्री धामी सरकार में युवाओ को नौकरी मिलने की रफ्तार पिछली सरकारों में कई गुना ज्यादा रही है।

यह भी पढ़ें 👉  बयान: सीएम धामी ने अग्निवीर योजना को लेकर दिया बड़ा बयान, आ सकता है बड़ा एक्ट

30 से 60 दिन में मिली नौकरी

आयोग गठन से लेकर अब तक के इतिहास में मुख्यमंत्री धामी सरकार में युवाओं को 30 से 60 दिन में सरकारी नौकरी मिल गई। आयोग में स्नातक स्तरीय, सचिवालय रक्षक और वन दरोगा भर्ती परीक्षाएं आयोजित करने के एक माह की भीतर रिजल्ट जारी हुआ। इसके बाद जरूरी औपचारिकताएं पूरी करने के दो माह के भीतर युवाओं को सम्बंधित विभाग को नौकरी देने की संस्तुति रिकॉर्ड समय मे दी गई।

यह भी पढ़ें 👉  बीकेटीसी में सुरक्षा संवर्ग और आईटी संवर्ग के लिए 58 पदों के सृजन की स्वीकृति

इन परीक्षाओं को लेकर तैयारी

आयोग की इसी माह 31 दिसम्बर को करीब ढाई सौ पदों पर स्नातक स्तरीय, वीपीडीओ, 31 जनवरी को इंटरमीडिएट स्तरीय, 11 फरवरी को पशुधन प्रसार अधिकारी, 25 फरवरी 2024 को युवा कल्याण विभाग में व्यायाम प्रशिक्षक और एलटी समेत अन्य विभागों से आने वाले अधियाचन के अनुसार परीक्षाएं आयोजित करने का शेड्यूल हैं।

इन विभागों में मिली नौकरी

पुलिस दूर संचार, रैंकर्स, आबकारी सिपाही, पशुपालन, रेशम, शहरी विकास, वन विभाग, शिक्षा विभाग में एलटी, कृषि विभाग,पेयजल निगम, विभिन्न विभागों में सहायक लेखाकार, लेखाकार, अनुदेशक, कार्यशाला अनुदेशक, वाहन चालक, सचिवालय रक्षक, मत्स्य विभाग आदि में रिक्त पदों के सापेक्ष नौकरी मिली हैं।

यह भी पढ़ें 👉  रिचार्ज: र‍िलायंस ज‍ियो ने चुपचाप री लॉन्च किया ये प्लान, जानें अपडेट

 

किस साल कितनी नौकरी मिली

वर्ष नौकरी
2023 2812 अब तक
2022 1110
2021 3722
2020 354
2019 1383
2018 1822
2017 570
2016 884

राज्य में सरकारी भर्ती प्रक्रिया तेजी से चल रही है। हमारी सरकार युवाओ को योग्यता के अनुसार समय पर नौकरी दे रही है। नौकरी में किसी भी तरह की गड़बड़ी न हो, इसके लिए पारदर्शी व्यवस्था अपनाई जा रही है। आयोग ने एक से दो माह में परीक्षाएं संपन्न कर युवाओं को नौकरी दी हैं। आगे भी रिक्त पदों पर तेजी से भर्ती प्रक्रिया जारी रहेगी।

पुष्कर सिंह धामी, मुख्यमंत्री उत्तराखंड

आयोग में तय शेड्यूल पर भर्ती प्रक्रिया संपन्न हो रही है। पहली बार हमने एक माह में परिणाम और दो माह के भीतर विभाग चयन संस्तुति भेजी गई है। यह अब तक का रिकॉर्ड है। आगे भी प्रस्तावित परीक्षाएं समय पर पारदर्शिता के साथ संपन्न कराई जाएगी।

जीएस मर्तोलिया, अध्यक्ष
उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग

Most Popular

To Top